Badey hokar
Kya banunga bade hokar ,
Sochta tha bachpan mein.
Kabhi police ki wardi mein,
Toh kabhi badey pardon par,
Dekhta tha khud ko
na jaane kitne rangon mein..Ab jo kaam main karta hun,
Kehata hun sab se badhiya hai,
Sach poocho toh yeh kewal,
2 paison ka ek zariya hai,unchi imaaraton aur badey nagaron mein,
Sharaabi bana, juaari bana,
Gira-phisala cham-chamati-chikani dagaron mein,
utha jab thokaron ke kadmon se toh,
Gir gaya khud ki nazaron mein..Yeh banunga badey ho kar,
Na socha tha kabhi bachpan mein..
Dafn ho jaunga main kahin,
Keechad lagey pairon ki bhagdad mein.Divyanshu

बड़े होकर

क्या बनूंगा बड़े होकर ,
सोचता था बचपन में.
कभी पुलिस की वर्दी में,
तो कभी बड़े पर्दों पर,
देखता था खुद को
ना जाने कितने रंगों में..

अब जो काम मैं करता हूँ,
कहता हूँ सब से बढ़िया है,
सच पूछो तो यह केवल,
2 पैसों का एक ज़रिया है,

उँची इमारतों और बड़े नगरों में,
शराबी बना, जुआरी बना,
गिरा-फिसला चमचमाती -चिकनी डगरों में,
उठा जब ठोकरों के कदमों से तो,
गिर गया खुद की नज़रों में..

यह बनूंगा बड़े हो कर,
ना सोचा था कभी बचपन में..
दफ़न हो जाऊँगा मैं कहीं,
कीचड़ लगे पैरों की भगदड़ में.

दिव्यांशु