High Quality Content Writers

सड़क की चीखें..जब कानों को काटती नहीं..

तो एक अजीब सा कोलाहल

रेंगता है मन में…

तनाव ढीलता है

तो कमज़ोरी कसने लगती है

ऑक्सिजन की ओवर सप्लाइ

फेफड़ों को डसने लगती है…

ऐसा लगता है…

जैसे शहर मरने लगा है मुझ में..

पहाड़ों से उलझे तारों को देख कर

दिलासा तो मिलता है…

पर फोन पर नो नेटवर्क देख कर

दम टूट जाता है…

शहर मरता है तो मर जाए,

पर मेरे अंदर तो उसे ज़िंदा रहने दो….

by Anshumali

Sadak ki cheekhein..jab kano ko kaatati nahin..

toh ek ajeeb sa kolaahal

rengta hai mann mein…

Tanaav dheelta hai

toh kamzori kasne lagti hai…

Oxygen ki over supply

phephdo ko dasne lagti hai…

Aisa lagta hai…

jaise shehar marne laga hai mujh mein..

Pahaado se uljhe taaro ko dekh kar

dilaasa toh milta hai…

Par phone par no network dekh kar

Dum toot jata hai…

Shehar marta hai toh marr jaye,

par mere andar toh use zinda rahne do….