Kahani Krishna Ki Maya

नारायण ! नारायण !

एक बार नारायण-नारायण करते नारद द्वारिकाधीश के दरबार में पहुँचे | उन्हें देख के श्री कृष्ण बहुत प्रसन्न हुए… बोले , “ देवर्षि !! द्वारिका में आपका स्वागत है..

देवर्षि नारद झुक […]

2021-05-02T08:20:05+00:00By |

रेत में ठिकाने और फ्लाई ओवर की छाँव

1.       छत की ख्वाहिश लाज़मी है मगर बारिश के बगैर बसर कहाँ ,

ऊँची इमारत पसंद है मगर फूटपाथ के बगैर शहर कहाँ

मस्जिदों का नाम बहुत है मगर गरीब की दुवाओं के बगैर असर कहाँ ,

कातिल को रातों रोते […]

2021-05-28T08:32:50+00:00By |
Go to Top