किस्से का किस्सा

फिर आया नए वर्ष के स्वागत का समय!

दिसंबर के अंतिम दिनों में जब कैलेंडर छलांग लगाने को होता है अख़बारों और मीडिया -जनों की दुनिया अतीत के पन्ने पलटने लगती है और टेलिविज़न के न्यूज़ एंकर पुराने क्लिप […]

Kuch To Baaki Hai

तलाक… सोहम के कान जलने लगे।

उम्र के इस पड़ाव पर जब लोग अपने बच्चों के बच्चे के साथ खेलते हैं, तब तो सोहम ने शादी की है । अभी शादी के कुछ ही महीने तो हुए हैं । […]

रेत में ठिकाने और फ्लाई ओवर की छाँव

1.       छत की ख्वाहिश लाज़मी है मगर बारिश के बगैर बसर कहाँ ,

ऊँची इमारत पसंद है मगर फूटपाथ के बगैर शहर कहाँ

मस्जिदों का नाम बहुत है मगर गरीब की दुवाओं के बगैर असर कहाँ ,

कातिल को रातों रोते […]

Go to Top