साइकिल वाला लव

किस्से का किस्सा-3

एक थी निशा…!

सुंदर, सुशील, गृहकार्य में निपुण…!

बड़ा प्यारा गाँव था निशा का ! नदी, पहाड़, जंगल, हरियाली – वो सब था – जिसके लिए गर्व कर सकती थी वो !
पास […]

Ishq Mein Robot

दिवाली की छुट्टियों का मौसम था… मेरा शहर सुबह-सुबह जाग जाता, और फिर.. दिन भर अलसाया सा रहता… मैं भी अपनी बालकोनी पे कोई किताब खोले… बैठा कम, सोता ज़्यादा रहता … करता भी तो क्या..तब छानने के लिए […]

Go to Top